कुछ नया होने को है

मुर्दनी माहोल में
सरगोशियां होने लगे
जब धुंआ यकायक भर उठे
तब मान लेना
कुछ नया होने को है।

नित नए संत्रास से
वातावरण गर्माने लगे
जब धरा रह-रह जल उठे
तब जान लेना
कुछ यहाँ होने को है।

जिंदगी की हाट में
श्वांस महँगी होने लगे
जब मुट्ठियाँ कसने लगे
तब देख लेना
कुछ उलट होने को है।

मृत्तिका के सृजन से
सुर्ख सूरज तपने लगे
जब धरा पाटल सी लगे
तब कह लेना
उत्सर्ग ही होने को है।

कुछ नए की चाह में
सब हव्य ही होने लगे
जब हवन खुद होने लगे
तब सीख लेना
व्यर्थ सब जलने को है।

- त्रिलोकी मोहन पुरोहित , राजसमन्द। 

Comments

Popular posts from this blog

सावन के अंधे को, हरा ही हरा , नज़र आता है.

ब्रह्म-राक्षस