अपनी मिट्टी से

चाहता हूँ मिलूँ अपनी मिट्टी से।
कई रंग मिलते अपनी मिट्टी से॥

रंज और गम क्यों रखूँ अपनों से।
एक रिश्ता भी है अपनी मिट्टी से॥

बुरा भी भला ही लगा है हरबार ।
जो कोई जन्मा अपनी मिट्टी से॥

खूँ अचानक उबाल मार जाता है।
चीखेँ जो आई अपनी मिट्टी से॥

आग बरसी थी वो जुलसाती रही ।
राहतें तब आई अपनी मिट्टी से॥

घुटन और बन्दिशें भी हैं अब कहाँ।
मुझको पंख मिले अपनी मिट्टी से।।

उड़ान भरनी होगी आसमान तक।
हाथ मिलाने को अपनी मिट्टी से।।

- त्रिलोकी मोहन पुरोहित राजसमंद।

Comments

Popular posts from this blog

सावन के अंधे को, हरा ही हरा , नज़र आता है.

ब्रह्म-राक्षस