Friday, 7 October 2011

स्टीव जॉब्स सुनो

स्टीव जॉब्स सुनो  -
तुम उतने ही भाग्यशाली हो 
जितना कि शकुन्तला-पुत्र
परन्तु कई मायनों में
आप ज्यादा भाग्यशाली हैं.

आप का जन्म
कोलंबिया में हुआ
सच पूछो तो 
यह बहुत अच्छा  ही हुआ,

यदि आप भारत में 
अविवाहित माँ से 
जाये होते
तब-
सच मानों या तो आप 
किसी कूड़े के ढेर पर 
फ़ेंक दिये जाते ,
किसी कचरे की तरह 
या-
जिन्दगी भर सहन करते
दुनिया भर की जलालत,
और दुत्कारे  जाते ,
जैसे दुत्कारा जाता है
गली का श्वान.

और-
तुम्हारी माँ
चौराहे पर लाकर
मारी-घसीटी जाती,
कुलटा कह-कह  कर
प्रताड़ित की  जाती,
उसके नाम के चल पड़ते
कई किस्से .
और जोड़े जाते उसके साथ
और कई तथाकथित नाम.
तुम्हारी जिन्दगी यों ही बीत जाती
धरी कि धरी रह जाती
तुम्हारी प्रतिभा
और-
कहीं, कभी का ठंडा पड़ जाता ,
काम करने का जज्बा ,

स्टीव जॉब्स सुनो
तुम जहां भी हो
पर अच्छे  हो
ईश्वर आपकी आत्मा को
शान्ति प्रदान करे .
मैं कोलंबिया को
सलाम करता हूँ
तुम्हारी कहानी से
यही लगता है
वहाँ बच्चों को  नहीं फैंका जाता
कूड़े के ढेर पर
और नहीं सताई जाती
अनब्याही माँ,
सचमुच तुम भाग्यशाली हो .

मैं तुम्हारी माँ को
बार-बार करूंगा प्रणाम
उसके साहस को
जिसने तुम्हे नहीं फैंका
कूड़े के ढेर पर
या-
चुपचाप नहीं किया दफन .
उसके साहसे से ही तो मिला
दुनियाँ को तुम्हारे माध्यम से
बहुत कुछ .
सचमुच तुम भाग्यशाली हो,
तुमने पायी  थी साहसी माँ.

स्टीव जॉब्स सुनो
तुम्हारे प्रति मेरा गहरा  है आदर
मैं अभी तुमसे
और बात करना चाहूँगा,
मेरे ख़त का करना इंतज़ार.







1 comment: