Friday, 10 August 2012

जय श्री राधे - कृष्ण बोलो , मन से एक ही बार .

                                                    


                                                    मकर ग्रसित गजराज पुकारे ,पा गये तुरत उद्धार.

                                                    रंक  सुदामा  नृप  बन राजे ,श्री कृष्ण बहुत उदार   

                                                    जय श्री राधे - कृष्ण  बोलो , मन  से  एक ही बार .

                                                    त्रिभुवन स्वामी राधा - प्यारे , देगा खुशियाँ हजार .

   

No comments:

Post a Comment