Thursday, 30 August 2012

रोशनी की किरण,

    रोशनी की किरण,
       चरण तो धरे
          अंतर में .

    रोशनी की किरण,
       अँधेरे से भरे ,
         अंतर में,
उतर जाए - उतर जाए .
      और मैं भर लूं ,
रोशनी की नदी अंतर में .

    रोशनी की किरण,
       सपने जो हरे ,
          अंतर में ,
ठहर जाए-ठहर जाए ,
      और मैं देख लूं
बसे हुए किसी शहर से  .

   रोशनी की किरण
      पत्थर जो भरे
         अंतर में
बिखर जाए-बिखर जाए ,
       और मैं कह लूं
कोई गीत खरी नजर से .
     

No comments:

Post a Comment