Thursday, 25 October 2012

दिल से रिश्ता जोड़ा है जुदा न मान.


बहते आंसुओं को तू पानी न मान.
देखो आया सामने सपना न मान .

झील को तू ने छुआ तो लहरें उठीं .
दिल भी वैसे कांपता सोया न मान .

आज कल चर्चा हमीं पर होती है .
यह तो होता ही रहा हर्जा न मान.

तू एक कंकर फेंक कर के देख ले.
चीख-चिंगारी होगी चुप्पी न मान .

उड़ती पतंग अपने हाथों कट चले.
बेरुखि सब मानते हैं होना न मान.

सूखे पत्तों की खडखडाहट सब तरफ  .
हवा चली तो जायेंगे ये गम न मान .

क्या काजी का आना जरूरी होता है  .
दिल से रिश्ता जोड़ा है जुदा न मान.

No comments:

Post a Comment