Sunday, 28 October 2012

हाइकू -



( १ )
चराग जले ,
ना नेह था न बाती,
तुम जो मिले.

*****************
( २ )
हम थे मिट्टी ,
तुमने छू जो दिया
अब कंचन .
*****************
( ३ )
दो टूक हुए ,
मारा नहीं खंजर ,
रूठ वो गए .
****************
( ४ )
एक लिफाफा ,
भारी है दौलत पे ,
वो उन का है .
****************
( ५ )
प्यार किया था ,
सर नहीं  दे सका,
व्यर्थ ही जिया.
****************

No comments:

Post a Comment