Saturday, 7 January 2012



कोलाहल के मध्य में , कपि श्री गरजते हैं ,
                     स्वामी!आप का कथन,हितकर नहीं है.
विद्रोह -विरोध सदा , नहीं कुचले जाते हैं ,
                      अरिवृद्धि  नृप  करे , यशस्कर  नहीं है.
साम दाम राम हेतु , स्वामी ! व्यर्थ सिद्ध होंगे ,
                      श्री राम को न मानना, अर्थकर नहीं है.
ब्रह्मा हरि हर प्रभु , राम से इतर नहिं ,
                      इन में  भेद   करना , श्रेयष्कर  नहीं है.


कपि श्री के बोलते ही , नीरवता ही छा गई ,
                      रक्ष-वृन्द स्तब्ध हुआ,गाज जैसे  गिरती.
कहते हैं रावण को , मिला यह अवसर,
                      व्यर्थ नहिं करें आप , प्राण-धार मिलती.
प्रकृति स्वरूपा सीता , हर कर लाये आप,
                      पञ्च तत्त्व क्रुद्ध रहे , लंका  खूब हिलती .
श्री राम की शरण लें , सीता सौंप क्षमा मांगे , 
                      लंका को सुशासन दें , यही  राह बचती .


झुंझला कर लंकेश , कहता है वानर को,
                       जानता हूँ श्रेय मेरा , जानता हूँ नीति को .
शासन और सत्ता की , वल्गा थामे रखता हूँ ,
                        चाहूँ जैसे चलते हैं , जानता हूँ रीति को .
सीता राम कौन होते ?  हर आगे सब तुच्छ,
                        पूर्व में ही कह चुका , हर प्रति प्रीति को.
मम शासन सत्ता को , मूल्य भ्रष्ट खूब कहा,
                        दारुण दंड पा कर , पाओ अति भीति को.

No comments:

Post a Comment