Saturday, 28 January 2012

राघव अनुज कर , ग्रह कर कहते हैं ,
                      सखा आप सुग्रीव को , बूझ नहीं पाये हो .
जिस त्रास में हैं हम , कपिराज भोग चुके , 
                      व्रण उनके गंभीर , देख नहीं पाये हो .
वे तो राजराजा यहाँ , दायित्व गंभीर यहाँ ,
                      नव तंत्र होने से ही , मिल नहीं  पाये हों .
हम हैं अतिथि यहाँ , सादर व्यवस्था दी है ,
                      सीता शोध को लेकर , सो ही नहीं पाये हों . 


अश्रु ले अनुज कहे   , क्षमा करें लक्ष्मण को , 
                        राम सम अन्य नहीं , राम  सम  राम हैं .
राम आप अगाध हैं , थाह नहीं मिलती है,
                        लक्ष्मण की पाठशाला , पाठ अभिराम हैं.
उद्धत स्वभावगत , आप सम धीर नहीं ,
                        लक्ष्मण तो दौड़-धूप , आप तो विश्राम हैं.
प्रभु ! सीता शोध हेतु , श्लथ भाव खलता है,
                        सीता कैसे जी पाएगी ? सीताप्राण राम हैं.


अनुज यह कह के , रामपद ग्रहते हैं ,
                         राम उन्हें रोकते हैं , ऐसा नहीं कीजिए .
लक्ष्मण आप भ्राता हैं , सखा भी हैं भरत सम ,
                         संकट  में  सहभागी , उर  लग  जाइए .
ऋणी हम आपके हैं , करणीय बताते हैं ,
                         कल सीता शोध हेतु , सुग्रीव बुलाइए .
निशा अब गहराई , श्रम परिहार करो ,
                          रुदन का त्याग कर , अंक लग जाइए .

No comments:

Post a Comment