Wednesday, 11 January 2012

स्वामी ! कपि मारे नहीं , यह राजदूत यहाँ ,
                          राजदूत का हनन , नहीं अनुकूल है.     
सुदंड ऐसा दीजिए , नित्य ही स्मरण करे ,
                          सर्व दिशा सध जाए,जो भी प्रतिकूल है.  
कपि काष्ठ -पुत्तलिका , संचालक राम है ,
                          कपि-स्वामी अत्र आये,नीति अनुरूप है.
विभीषण-मित्र बोले , प्रभु ! यह उचित है,
                          मुख्य अरि-बंधन की , रीति ही अनूप है.


साधुवाद विभीषण ,लंकेश का आप को है .
                           अंग-भंग उचित है ,और तो युक्ति नहीं .
कपि मात्र साधन है , लक्ष्य अब अन्य है ,
                          लंका - विचलन हेतु , मूल में कपि नहीं . 
जब तक हस्तगत , राम नहीं होते हैं ,
                          तब तक विवाद से ,लंका की मुक्ति नहीं.
राम का ही नाम लेके, हमें धमकाता कपि .
                           न रहेगा बाँस ही तो , बंसी बजेगी  नहीं.


सुनो-सुनो विभीषण , कपि पुच्छ विलक्षण ,
                           वह्नि युक्त पुच्छ  करो, दौड़ा -दौड़ा जाएगा.
पुच्छ हीन कपि जब , व्यथा राम से कहेगा ,
                           कपि दशा देख राम , जला - भुना आएगा.
चलो सब मिल कर , कपि पुच्छ दाह करो ,
                           पुच्छ -दाह उत्सव से , खूब मजा आएगा.
दशग्रीव बोलते ही , निशाचर कह पड़े ,
                           जाओ-जाओ सब कोई , वस्त्र - नेह लाएगा .                                       

No comments:

Post a Comment