Sunday, 15 January 2012

कपि शीघ्र चढ़ कर , मंदिर के शीर्ष बैठा ,
                        धू - धू कर वस्त्र - ढेर , धधक के जलता .
अनल की ज्वाल पा के , अनिल चंचल हुआ ,
                        पुच्छ जली या ना जली , पर दुर्ग दहता .
अनल को क्रुद्ध देख , जातुधान भाग चले ,
                        सब ओर "त्राहि-त्राहि ",मात्र स्वर भरता .
मंदिर से मंदिर को , चला जाता वानर है ,
                        अनल और धूम्र से ही ,लंका नगरी भरता.


अब कपि रोद्र रूप , जहाँ-तहाँ दिखता,
                        अनल  लगाता चले , राम जयघोष में .
पदाघात कर-कर ,सदन ढहाता जाए,
                        कुंजर  प्रवेश करे , मानों कंज-कोष में .
छिप जाते लंकवासी , देख-देख हनुमान ,
                        छिपते हैं लवा मानो ,द्विजराज-कोप में.
जातुधान मारे जाते , वानर-हुंकार से ,
                        मरते  शशक  मानो , केसरी के घोष में .


जातुधान रमणियाँ , भयभीत बिलखती , 
                        हाय !मैया करती वो , अश्रु ढुलकाती हैं .
भयंकर ज्वाल देख , भैरव रूप कपि देख ,
                        ओह !तात कहती वो,संज्ञा-हीन होती हैं .
भीषण विस्फोट होते , सदन के ढूह होते,
                        पविकर्ण होती जाती , गर्भ खिसकाती हैं.
वह्नि फूँकते  कपि को , महाकाल सम देख ,
                        हृदय  दबाती  हुई , वहीँ  प्राण  खोती  हैं .                         

No comments:

Post a Comment