Saturday, 17 September 2011

जहर जहर को मारता है.

विषधर !
तुम चन्दन वन में,
चंदनों पर ,
काली-काली कुण्डलियाँ ,
कसकर उन्हें ,
डसा मत करो .

नितांत आवश्यक है,
तुम्हारा विषवमन,
तो,वहाँ करो,
जहां हो रहा है ,
विष-बीजों का अंकुरण .

क्योंकि-
लोहा लोहे को काटता है ,
वैसे ही-
जहर जहर को मारता है.

No comments:

Post a Comment