Tuesday, 27 December 2011

कपि श्री विनम्र बन , कहते दशग्रीव से ,
                        स्वामी ! मैं हूँ शाखामृग , शुद्ध वनवासी हूँ.
चतुष्पद भूत मात्र , भ्रमण स्वभाव मम ,
                        आगत  स्वभाव वश  , पक्ष  से  प्रवासी  हूँ .
पत्र  - पुष्प मैं चर्वित , प्रताड़ित राक्षसों से ,
                        आत्म-रक्षार्थ रक्ष हत , मैं निरपराधी  हूँ .
राजा मानूं  राम मात्र , शेष सब दास मात्र ,
                         प्राण-सूत्र  राम-हस्त , पूर्ण मैं  विश्वासी हूँ .     

दशानन कहता है ,वानर तू अपराधी , 
                          अति  अपराध  कर  ,  हमें  धमकाता है .
अशोक को उजाड़ के , सुपाट दिया शव से ,
                           राज-रक्त से सना तू ,आँखें दिखलाता है .
लंका और रावण से , कौन परिचित नहीं ?
                           मेरे  गृह  में  मुझ  को , दास बतलाता है.
सिंहासन से उतर  , विचलित दशग्रीव ,
                           लगता  है  जैसे फणि , फुत्कार  करता है.

कपि दृढ हो के  कहे , स्वामी अब सुनिये ,
                           अपराधी मुझे कहें , स्वयं को ही मानिए .
बिना अधिकार के ही , सीता हर लाये आप ,
                           मूल्य हीन  काज में , कुहर्ता  ही मानिए .
देव नर नाग सब , लूट -लूट कर बैठे ,
                           कुत्सित कार्य के लिए , तस्कर ही मानिए .
क्रोध-हिंसा-अहंकार , वशीभूत  मन के हो,
                           मार दिए मूल्य  सारे , दास तो ही मानिए.
                                  

No comments:

Post a Comment