Monday, 12 November 2012

आज के हाईकू- लड़ते योद्धा.


********************

काली रातों में,
झिलमिलाते दीप,
लड़ते योद्धा.

********************

बिखरी गई ,
आँगन में किरणें,
बनी रंगोली.

********************

स्वर्ण आभ से ,
झिलमिल धरती,
वधू सजी है.

********************

नन्हें दीपक,
झिलमिल अवली,
नक्षत्र सजे.

********************

काला पन्ना,
खचित स्वर्ण रेख,
बनी दिवाली.

********************

No comments:

Post a Comment