Sunday, 18 November 2012

ममता बांधें .


===========
धूल उडाती ,
गायें घर को लौटी,
ममता बांधें .
****************
भरी घास में ,
शेर पसर जाता,
बकरी मारी .
****************
नीला नभ है ,
श्येन ऊपर-ऊपर,
चिड़िया काँपे .
****************
कई दिनों से ,
नभ में चन्दा आया ,
थी पडौसन .
****************
हवा चली तो ,
स्वर बंसी बहता ,
थी विरहिण .
****************













No comments:

Post a Comment