Saturday, 17 November 2012

रोया था नभ .


***************
ओस की बूंदे ,
पूरी रात गिरी थी ,
रोया था नभ .
***************
नभ गरजा ,
धरती हिलती है,
मांगे हिसाब .
***************
हवा चली है ,
खिड़की हिलती है,
होगा मन का .
***************
लाल नभ से,
सरोवर भी लाल ,
तू क्यों न लाल .
***************
दायें से बाएं,
उड़ गया परिंदा,
तू ना बदला .
***************

No comments:

Post a Comment