आज के हाइकू - संभव कैसे ?



परिधि ले के ,
है प्रिय से मिलना ,
संभव कैसे ?
*****************
लगा अडंगा ,
है चाह बढ़त की,
संभव कैसे ?
*****************
कटु वक्ता को,
हो सुगीत श्रवण,
संभव कैसे ?
****************
प्रतिभा-पानी,
तरल-सरल ना,
संभव कैसे ?
****************
आग लिए तू ,
अब सो सकता है ,
संभव कैसे ?
***************

Comments

Popular posts from this blog

सावन के अंधे को, हरा ही हरा , नज़र आता है.

ब्रह्म-राक्षस