Saturday, 24 November 2012

भूख बोलती .



कल था पेड़ ,
आज ठूंठ बना है ,
भूख बोलती .
******************
धानी धरती ,
बंजर बन बैठी ,
भूख मारती.
******************
एक खेत था ,
आज डांग पड़ी है ,
भूख बांटती.
******************
गलबहियां ,
अब स्वप्न हुई है,
भूख भांजती .
******************
राजहंस थे,
सब आज भिखारी ,
भूख बनाती.
******************

No comments:

Post a Comment