Thursday, 8 November 2012

आज के हाइकू - मन पतंग



*****************

चढ़ती जाये ,
आशा की डोर लिये,
मन पतंग .

*****************

होती नवीन ,
आशा के बाजारों में ,
मन पतंग .

*****************

खूब चिढ़ाती ,
इठलाती दिखती ,
मन पतंग .

*****************

कट जाती है ,
खुले पेंच लगाती,
मन पतंग.

*****************

घर के आगे ,
वे धरी रह गयी ,
मन पतंग .

*****************

समय लिये ,
चिंदी हुई रखी है,
मन पतंग.

*****************

No comments:

Post a Comment