Saturday, 24 November 2012

पसरी दुर्वा,

पसरी दुर्वा,
हरित-पीत वर्ण,
जैसे जीवन .
****************
फैली दुर्वा ,
रेशा-रेशा फैलाए,
ऐसा जीवन.
****************
पौर-पौर पे,
दुर्वा से दुर्वा फैली,
जागा जीवन.
****************
शीर्ष जुकाए ,
सब सहती दुर्वा,
सादा जीवन .
****************
उठी धरा से ,
दुर्वा पूजा में आई,
प्यारा जीवन .
****************
-त्रिलोकी मोहन पुरोहित

No comments:

Post a Comment