आज के हाइकू- यही प्यार है.



धरा जली तो,
बादल गर्जे-वर्षे,
यही प्यार है.

*****************
आग कहीं पे ,
है जलन कहीं पे,
यही प्यार है.

*****************
इक जाता है ,
इक द्वार पे रोये,
यही प्यार है.

*****************
आँखें बरसी,
तब दामन भीगा,
यही प्यार है.

*****************
उस ने सोचा ,
उसे हिचकी आयी,
यही प्यार है.

*****************

Comments

Popular posts from this blog

सावन के अंधे को, हरा ही हरा , नज़र आता है.

ब्रह्म-राक्षस