देख सगाई


===============
लाल फूल पे ,
जब तितली डोले,
देख सगाई
*******************
दौड़ के पानी ,
सागर में पहुंचा,
देख मिताई .
*******************
जड़ें ईख की ,
है खेत में गहरी,
देख ढिटाई .
*******************
पके पत्र हैं,
उड़ते चिड़िया से,
देख विदाई.
*******************
नव कोंपल,
हर शाख पे झूमे,
देख बधाई.
*******************

Comments

Popular posts from this blog

सावन के अंधे को, हरा ही हरा , नज़र आता है.

ब्रह्म-राक्षस