Saturday, 1 December 2012

नाजुक शीत


===========
नाजुक शीत ,
धूप के छंद रचे,
पढ़ते हम .
***************
पसरी धूप,
चादर सी लगती,
ओढ़ते हम .
***************
चांदी ऊपर ,
नीचे स्वर्ण राशियाँ,
मुग्ध हैं हम.
***************
एक हो गए ,
सूरज और चन्दा ,
कम्पित हम.
***************
दिन को धूप ,
ले ली रात रजाई,
सिकुड़े हम.
***************
रात की स्याही,
ले दिन का कागज़.
लिखते हम.
***************
धूप की टोपी,
हर कोई पहने ,
एक से हम.
***************

No comments:

Post a Comment