Thursday, 1 March 2012

रावण की लंका सारी , वारिधि के मध्य बसी  ,
                      प्रभु ! लंका नगरी को , ध्वस्त कर आया हूँ .
रावण के पास कई , सुभट हैं निशाचर,
                      प्रभु !  कई  वर  वीर , मार  कर   आया  हूँ  .
रावण के ह्रदय में , परिजन-पार्षद में ,
                       निशाचर - समूह   में , शंक  भर  आया हूँ.
रावण का स्वर्ण दुर्ग , स्वर्ण नगरी सहित ,
                       धू - धू  कर  होली सम , दह  कर आया हूँ.


निवेदन कर कपि , चरण में नत हुए , 
                        राजीव  ने  उठ  कर , वक्ष पे लगा लिया .
लक्ष्मण ने आगे बढ़ , कपि कर द्वय गह ,
                        साधु-साधु कह कर , अक्ष पे लगा लिया.
सुग्रीव ने मोद भर , राज-रत्न कह कर ,
                        वानर को दक्षिण में , भुज पे लगा लिया.
अंगद ने आगे बढ़ ,राम जयघोष कर ,
                        ले  कर  के वानर को , पृष्ठ पे लगा लिया.


सुग्रीव संकेत कर , शांत कर सभासद ,
                         राघव से  कहते हैं , प्रभु ! बढ़  जाइए  .
वीर हनुमान अद्य  , निशाचर मार आये ,
                         आत्मबल हीन रक्ष , राम चाँप जाइए .
स्वर्ण रक्ष नगरी को , दुर्ग सह दह आये , 
                         रक्ष-तंत्र  भ्रष्ट  वहाँ , पूर्ण  फूँक  जाइए .
सीता सह लोकोद्धार , समय  उचित जान  ,
                         सुर्ख  हुए  लोह  पर , चोट कर  जाइए .

No comments:

Post a Comment