दुनियादारी.


============

हरे पेड़ पे ,
पंछी की हरकत,
दुनियादारी.
*****************
चिंता के मारे ,
पंछी तिनका ढोता,
दुनियादारी.
*****************
कल खाली था ,
अब नीड भरा है,
दुनियादारी.
*****************
नीड में बच्चे  ,
ममता से लड़ते,
दुनियादारी.
*****************
नीड एक था ,
अब दिशा अलग,
दुनियादारी.
*****************
पंखों में पल ,
अब पंख फैलाए,
दुनियादारी.
*****************
नीड बड़ा था,
अब छोटा लगता,
दुनियादारी.
*****************

Comments

Popular posts from this blog

सावन के अंधे को, हरा ही हरा , नज़र आता है.

ब्रह्म-राक्षस