शीत सुहानी .


===========
चढ़ आई है ,
घर की बुढिया सी,
शीत सुहानी .
*******************
लिये रजाई ,
कम्बल ओढ़े आई ,
शीत सुहानी.
*******************
सी सी करती ,
दस्तक देती आई ,
शीत सुहानी .
*******************
मीठा हलुआ ,
गुड-तिल्ली ले आई ,
शीत सुहानी.
*******************
खींच रजाई ,
माँ बोली -"ओढ़ इसे" ,
शीत सुहानी .
*******************
- त्रिलोकी मोहन पुरोहित, राजसमन्द .

Comments

Popular posts from this blog

सावन के अंधे को, हरा ही हरा , नज़र आता है.

ब्रह्म-राक्षस