निराकार सी .



===========
हरी दूब पे ,
शबनम तिरती ,
निराकार सी .
****************
रंग गंध में ,
या है गंध रंग में ,
निराकार सी .
****************
दसों दिशा में ,
पवन बह रही ,
निराकार सी .
****************
तेरी साँसों को ,
अपने में है पाया ,
निराकार सी .
****************
सच्ची कविता,
कल-कल बहती,
निराकार सी .
****************

   -त्रिलोकी मोहन पुरोहित.

Comments

Popular posts from this blog

सावन के अंधे को, हरा ही हरा , नज़र आता है.

ब्रह्म-राक्षस