Wednesday, 12 December 2012

घर भी ऐसा .


===========

शोर मचाती ,
है रेल फिसलती,
घर भी ऐसा .
*****************
आगे ईंजन ,
खींच रहा है बोगी,
घर के जैसा.
*****************
ठांव-ठांव ले ,
रेल दौड़ लगाती ,
घर भी देखा.
*****************
पटरी है तो,
नित रेल चलेगी,
घर भी वैसा .
*****************
टूटी पटरी ,
ईंजन है छिटका ,
घर ही टूटा .
*****************
ईंजन-बोगी ,
लग रेल बना है ,
घर भी माने .
*****************
चलती रेल ,
चलती है पटरी,
घर भी जानें .

- त्रिलोकी मोहन पुरोहित , राजसमन्द.

No comments:

Post a Comment