Saturday, 8 December 2012

उज्ज्वल प्रकाश.


तुम हो कि मुझ से
दूर-दूर-दूर ,
और  मैं हूँ कि ,
तुम्हारे बिल्कुल,
पास-पास-पास.

तुम्हें नहीं मालूम,
तुम मेरे अन्दर,
और,
मुझ से ही प्रस्फुटित
जैसे सूरज-किरण,
और दोनों के पास,
एक उज्ज्वल प्रकाश.

वह झील , वह पानी ,
और
उन के आपसी रिश्ते,
जो कि करते हैं ,
एक दूसरे को परिभाषित ,
बिल्कुल उन के ही ,
आस-पास और साथ-साथ.

चुप हुई सितार को,
कल मैंने उठा लिया,
जमी हुई गर्द झाड़ने के लिए,
अनायास छू गयी ,
उस के तारो को ,
मेरी अनभ्यस्त हुई अंगुलियाँ,
और
तार थे कि झनझना उठे ,
शायद वे कहने लगे,
ज़रा समझो हमारी भी,
 एक लम्बी और मूक प्यास .

बहुत ही अजीब है ना,
हम ही नकारते हैं ,
हमारे अंतर के सत्य को,
सत्य ?
हाँ, हाँ ,वही सत्य ,
तुम्हारे अन्दर , मेरे अन्दर ,
वही तो चीखता है,
घायल आदमी  की तरह ,
और कहता है ,
मुझे चाहिए , मुझे चाहिए,
खरे स्वर्ण सा निश्छल विश्वास.

         -    त्रिलोकी मोहन पुरोहित , राजसमन्द.

No comments:

Post a Comment