Sunday, 9 December 2012

रेत से दिन.


कोयल कूकी,
गहराती अमिया ,
सुख के दिन ,
धीरे से रीत चले ,
रेत से दिन.

मैना चुप है  ,
झरती है अमिया ,
दुःख के दिन ,
लम्बे होते जाते हैं ,
छाँव से दिन.

चिड़िया गाती ,
हुलसाई अमिया ,
अपने दिन ,
बरस के बहते ,
पानी से दिन.

युगल देख ,
अमिया भी बौराई ,
प्यार के दिन ,
मुश्किल से टिकते ,
झूले से दिन.

    - त्रिलोकी मोहन पुरोहित. राजसमन्द ( राज.)

No comments:

Post a Comment