Thursday, 7 January 2016

नई दरार

हमने हमेशा ही 
दिन को 
रोशनी के साथ 
व्यस्त देखा
परंतु चेहरे को 
हमेशा ही 
मुस्कराहट के लिए 
संघर्ष करते देखा,
अभी भी हमने
खुला छोड़ दिया
जो दरारों को ।
दरारों को पाटने में 
हाथ छिल गए
परंतु हर दरार के 
समापन पर 
मुस्कान उसी तरह 
उभर आती,
सुफल ही मिल गया
मानो जिजीविषा को ।
त्रासदी मुस्कराहट के 
रुक जाने की नहीं, 
त्रासदी तो दरार के बाद 
इक नई दरार के 
उभर आने की है व, 
जैसे अनजाने में ही 
दिये जा रहे निमंत्रण 
हम नई दरारों को । 
-
त्रिलोकी मोहन पुरोहित, राजसमन्द।I


No comments:

Post a Comment